Monday, December 5, 2022
Homeजीवन-शैलीHow Much Do We Sleep: एक दिन में कितने घंटे सोना चाहिए?...

How Much Do We Sleep: एक दिन में कितने घंटे सोना चाहिए? जानें सुबह जल्दी उठने का तरीका

एक दिन में कितने घंटे सोना चाहिए (How Much Do We Sleep)? इस सवाल के जवाब में अक्सर पर्याप्त नींद लेने की सलाह दी जाती है। ऐसे में हमें यह जानना जरुरी हो जाता है कि आखिर हमें एक दिन में कितने घंटे सोना चाहिए? अधिकतर लोगों को इस बात का पता नहीं होता कि कितने घंटे की नींद (Sleep) उनके लिए पर्याप्त होती है। तो इस लेख में हम यही सवाल का जवाब जानेंगे।

यह भी पढ़ें: एक दिन में कितना पानी पीना चाहिए? जानें 8 से 10 गिलास पानी पीने की बात कितनी सही..

How Much Do We Sleep: बेहतर स्वास्थ्य के लिए बेहतर नींद जरूरी

हमारी नींद का संबंध सीधे हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। हमारी अच्छी नींद हमारे अच्छे स्वास्थ्य का परिणाम होती है लेकिन आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग अच्छी नींद नहीं ले पाते हैं। हमारी बदलती जीवनशैली और खानपान की गलत आदतों के कारण हमारी नींद भी प्रभावित होती है। यदि हम पर्याप्त मात्रा में नींद ना ले तो हमें थकान और बेचैनी लगती है। यदि हम अपनी जरूरत के हिसाब से कम सोएंगे तो इससे हमारे शरीर में कई तरह के दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं। हमारे शरीर को उम्र के अनुसार अलग-अलग नींद की जरूरत होती है और जानकार किस उम्र में कितने घंटे सोना चाहिए उस पर क्या अपनी बात रखते हैं हमें जरूर जानना चाहिए।

यह भी पढ़ें: जानिए अदरक और गुड़ खाने के औषधीय फायदे

उम्र के अनुसार, एक दिन में कितने घंटे सोना चाहिए?

नवजात शिशु (0-3 महीने)- एक नवजात शिशु को एक दिन में करीब 14 से 17 घंटे सोना चाहिए। अगर कोई नवजात बच्चा 18 या 19 घंटे से भी ज्यादा सोता है तो वह भी उससे नुकसान पहुंचा सकता है।

शिशु (4 से 11 महीने)– वहीं 4 से 11 महीने के शिशु को 1 दिन में 12 से 15 घंटे तक सोना चाहिए, हालांकि 10 घंटे की नींद भी उनके लिए पर्याप्त हो सकती है।

छोटा बच्चा (1 से 2 साल)- 1 से 2 साल के बच्चे के लिए 1 दिन में करीब 11 से 14 घंटे सोना चाहिए। लेकिन 9 घंटे तक की नींद भी इनके लिए पर्याप्त हो सकती है।

बच्चा (3 से 5 साल)- 3 से 5 साल के बच्चों को 1 दिन में करीब 10 से 13 घंटे सोना चाहिए। इस आयु वर्ग के बच्चों को 8 घंटे से कम और 14 घंटे से ज्यादा की नींद नहीं लेनी चाहिए।

स्कूलिंग बच्चा (6 से 13 साल)- 6 से 13 साल के बच्चों को 1 दिन में 9 से 11 घंटे सोना चाहिए, हालांकि इनके लिए 7 से कम और 11 से ज्यादा घंटे की नींद भी सही मानी जा सकती है।

किशोरावस्था (14 से 17 साल)- 14 से 17 साल के उम्र वाले बच्चों को 1 दिन में 8 से 10 घंटे की नींद लेनी चाहिए लेकिन 7 घंटे से कम और 11 घंटे की नींद को भी सही माना जा सकता है।

वयस्क (18 से 25 साल)- 18 से 25 साल के वयस्कों को 1 दिन में 7 से 9 घंटे सोना चाहिए लेकिन 6 घंटे से कम नहीं होना चाहिए।

अधेड़ अवस्था (26 से 64 साल)- 26 से 64 साल के नौजवान व्यक्तियों को भी वयस्कों की भांति 1 दिन में 7 से 9 घंटे सोना चाहिए।

बुजुर्ग (65 साल से ज्यादा)- 65 साल से ऊपर उम्र वाले सभी बुजुर्ग को 1 दिन में 7 से 8 घंटे सोना चाहिए। वहीं 5 घंटे से कम और 9 घंटे से ज्यादा नहीं सोने की सलाह दी जाती है।

यह भी पढ़ें: धनिया का पानी पीने के फायदे, इन 3 तरीके से करें तैयार

सुबह जल्दी उठने का तरीका

सुबह जल्दी उठने के लिए जल्दी सोए (Sleep Early to Wake Up Early)

यह सही है कि उम्र के अनुसार अपनी नींद पूरा करना बहुत जरूरी है, वही नींद पूरी करने के साथ सुबह जल्दी उठना भी जरूरी होता है तो अगर सुबह जल्दी उठना है तो उसके लिए रात में जल्दी सोना भी पड़ेगा।

तेज बजने वाला अलार्म लगाएं (Use High Valume Alarm)

अगर हर सुबह अलार्म बजने के बाद अगर आपकी नींद नहीं खुलती तो आपको अलार्म बदलने की जरूरत है अगर आप अलार्म मोबाइल पर लगाते हैं तो रिंगटोन बदले और वॉल्यूम बढ़ाएं।

बेडरूम तक सूरज की रोशनी आने का रास्ता रखें (Keep a Sunlight Way in the Bedroom)

सुबह जल्दी उठने मैं सूरज की रोशनी भी आपकी मदद कर सकती है, अगर आपके बेडरूम तक सूरज की रोशनी आने का रास्ता नहीं है तो अपने बेडरूम को कुछ इस प्रकार व्यवस्थित करें जिससे सुबह जल्दी सूरज की रोशनी आपके बेडरूम तक पहुंच सके और आपकी नींद जल्दी खुलने में मदद करें।

रोज ब्रेकफास्ट करें (Have Breakfast Everyday)

अगर आप हर रोज ब्रेकफास्ट करते हैं तो शरीर को इसकी आदत सी बन जाती है। अगर बिना ब्रेकफास्ट किये देर तक सोते रहेंगे तो दिमाग को भूख लगने का संदेश मिलेगा तो नींद खुल सकती है।

वीकेंड पर भी रूटीन बनाए रखें (Maintain Routine Even on Weekends)

अक्सर लोग वीकेंड पर अपना रूटीन बुलाकर रात में देर तक जागते रहते हैं जिससे सुबह देर तक सोते रहते हैं। फिर जब वह वापस से रूटीन में आने की कोशिश करते हैं तो बहुत मुश्किल होती है। इसलिए वीकेंड पर भी अपना रूटीन बनाये रखना जरुरी होता है।

(Disclaimer : इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। Rashtra Bandhu इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।)

राष्ट्रबंधु की नवीनतम अपडेट्स पाने के लिए हमारा Facebook पेज लाइक करें, YouTube पर हमें सब्सक्राइब करें, और अपने पसंदीदा आर्टिकल्स को शेयर करना न भूलें।

Ranjeeta
Ranjeetahttps://www.rashtrabandhu.com
My self Ranjeeta, I've passed out MCA from Bodhgaya University. I love to write in my spare time.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments