Wednesday, June 19, 2024
Homeखबरेंअंतराष्ट्रीयCoronavirus छूने से नहीं फैलता, US की नई रिसर्च का दावा

Coronavirus छूने से नहीं फैलता, US की नई रिसर्च का दावा

वाशिंगटन। साल 2020 में जब कोरोना वायरस (Coronavirus) बहुत तेजी से फैल रहा था, तब हालत ये थे कि कुछ भी छूने से कोरोना संक्रमण का खतरा था। लेकिन अब एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि छूने से कोरोना फैलने का खतरा कम है। हालांकि इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आप मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करना और सैनिटाइजेशन करना बंद कर दें। वायरस से बचाव के ये सबसे सटीक उपाय हैं। इनसे अगर वायरस आपके हाथों तक पहुंच भी जाता है तो सैनिटाइजेशन से नष्ट हो जाता है।

क्या है सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (Centers for Disease Control) का दावा?

अमेरिका (United States) में की गई एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि किसी सतह को छूने से अब कोविड-19 (Covid-19) संक्रमण फैलने का खतरा कम है। वह सतह भले ही संक्रमित ने ही क्यों न छुई हो। सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (Centers For Disease Control) के मुताबिक, अब किसी सतह को छूने से संक्रमित होने की आशंका 10 हजार लोगों में से सिर्फ एक की है।

चीज को छूने को लेकर नई गाइडलाइंस-

एक्सपर्ट्स ने पिछले साल एडवाइजरी जारी करके कहा था कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट, सुपरमार्केट और अन्य जगहों पर किसी चीज को न छुएं। अगर छूना भी पड़े तो हाथों को तुरंत सैनिटाइज करें। नई रिसर्च में पता चला है कि चीजों को छूने से ये खतरा कम है।

इन जगहों पर Coronavirus संक्रमण का खतरा ज्यादा-

सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (CDC) के अनुसार, लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण अब बंद, भीड़ वाली और खराब वेंटिलेशन वाली जगहों पर ज्यादा हो रहा है। अगर संक्रमित लोग ऐसी जगहों पर ज्यादा हैं तो अन्य लोगों के कोरोना संक्रमित होने का खतरा भी ज्यादा होगा। सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (Centers For Disease Control) की डायरेक्टर डॉक्टर रोशेल वालेंस्की के मुताबिक, अलग-अलग सतहों को छूने से लोग संक्रमित हो सकते हैं। लेकिन इसकी संभावना अब बहुत कम है।

https://twitter.com/grahamja51/status/1381573951806173192?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1381573951806173192%7Ctwgr%5E%7Ctwcon%5Es1_&ref_url=https%3A%2F%2Fzeenews.india.com%2Fhindi%2Fscience%2Fcoronavirus-does-not-spread-by-touching-us-new-research-claims%2F883687

वर्जीनिया टेक यूनिवर्सिटी (Virginia Tech University) में एयरबॉर्न डिजीस (Airborne disease) की एक्सपर्ट लिंसी ने कहा कि हमें इस बारे में बहुत दिनों से मालूम है। लेकिन लोग फिर भी घर और बाहर की चीजों को सैनिटाइज करने में जुटे हैं। जबकि किसी सतह को छूने से कोरोना संक्रमण का खतरा कम है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अब तक सबूत नहीं मिले हैं कि किसी संक्रमित सतह को छूने से कोई बीमार पड़ा।

Coronavirus हवा के जरिए ज्यादा फैल रहा-

हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि यह बात साफ हो चुकी है कि कोविड-19 हवा के जरिए ज्यादा फैल रहा है। दरअसल हवा में कोरोना संक्रमितों के नाक और मुंह से निकली बूंदें मौजूद होती हैं, जिससे दूसरे लोग संक्रमित हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें : CM ऑफिस में कोरोना की दस्तक, CM Yogi Adityanath ने खुद को किया आइसोलेट, कही ये बातें

रटगर्स यूनिवर्सिटी (Rutgers University) के माइक्रोबायोलॉजिस्ट (Microbiologist) गोल्डमैन ने बताया कि किसी सतह से कोरोना संक्रमण फैलने का कोई वैज्ञानिक कारण अभी तक नहीं मिला है। इसकी आशंका बेहद कम है। कोरोना वायरस हवा के जरिए ही शरीर में प्रवेश करता है। यह छूने से फैलने वाला वायरस नहीं है।

राष्ट्रबंधु की नवीनतम अपडेट्स पाने के लिए हमारा Facebook पेज लाइक करें, WhatsAppYouTube पर हमें सब्सक्राइब करें, और अपने पसंदीदा आर्टिकल्स को शेयर करना न भूलें।

CHECK OUT LATEST SHOPPING DEALS & OFFERS

Arvind Maurya
Arvind Mauryahttps://www.rashtrabandhu.com
I love writing newsworthy/generally valuable articles. Our passion is to read & learn new things on a routine basis and share them across the net. Professionally I'm a Developer/Technical Consultant, so most of our time goes to discovering & develop new things.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular